Content मोहल्ला

II अपनी भाषा , अपना मंच II

Category

न्यू एंट्री

ग़ज़ल

वो मेरा जीवन है बाबा उसके बिन उलझन है बाबा जिस दिन से दूर गई है थमी हुई धड़कन है बाबा जिस्म हो गया ख़ाली जैसे रूह हुई विरहन है बाबा इस दिल में अब कोई नहीं है यह बस्ती… Continue Reading →

तुम्हारा सुकून

जब तुम होती हो परेशान या आता है तुम्हें मुझ पर प्यार तब , तुम रख देती हो अपना सिर मेरे कंधों पर और हो जाती हो बेफिक्र मुझे नही पता ये क्या है ! पर शायद ये वही एहसास… Continue Reading →

प्रेम

प्रेम मोह में नहीं बाँधतायह तो स्वतंत्र कर देता हैहर माया मोह सेप्रेम वही कर सकता हैजो त्याग कर सकता हैजो भय से ग्रसित हो उसे प्रेम की प्राप्ति? सम्भव ही नहींप्रेम बन्धन में होते हुए भी स्वतंत्र हैप्रेम में… Continue Reading →

मैं पढ़ता रहूँगा और लिखता भी

मैं पढ़ता हूँ बेहद कम और लिखता हूँ बे-कनार लेकिन कहना चाहूंगा कि – जो पढ़ता हूँ रखता हूं याद। जब पढ़ता हूँ – केदारनाथ सिंह जी की “पांडुलिपि” या की उनकी “मातृभाषा” विनोद जी की कविताओं में छत्तीसगड़ी, जैसी… Continue Reading →

बरगद का बलिदान

मैं बरगद हूँ नहीं हुआ हूँ बूढ़ा मैंने तरुणाई भर पार करी है। छुआ नहीं है अभी धवल हो, जूट-जटाओं ने धरती को, रंगत मेरी हरी भरी है। अभी आई थीं, कुछ दिन पहले वट-सावित्री के पूजन को, सजी-धजी सी,… Continue Reading →

प्रेम और प्रतीक्षा

“प्रेम” को कह सकते है हम प्रतीक्षायें और प्रार्थनाएं जो एक युग से शुरू होकर अंतिम युग तक जिंदा रहती है भिन्न भिन्न रूपों में ये विचरण करती है बदनामी की सड़कों पर तो घायल होती है कभी ऊबड़ खाबड़… Continue Reading →

आग पल रही है अंतर में

आग पल रही है अंतर में कैसा जीवन सुखदायी है कहते सात जनम का रिश्ता इंतज़ार दुखदायी है मन पागल लेकर पंख हवा से अनंत तक उड़ जाता है l चाहे अनचाहे अनजाने में भव बंधन जुड़ जाता है l… Continue Reading →

ग़ज़ल

कागज़ दिल पर,इस दिल की दरकार लिखेंगे। नाम लिखेंगे अपना,तुमको प्यार लिखेंगे। तुमको पा कर,दुनियाँ पा ली है मैंने। तुमको अपने जीवन में उपहार लिखेंगे। रोज़ नये लगते हो,रोज़ जुदा सबसे। नई अदा में ,हम तुमको अखबार लिखेंगे। आफताब तुम,रातों… Continue Reading →

वक़्त के मुसाफिर

आँखों में वो जूनून दिखा जो समंदर डुबो दे उम्मीदों में वो अलख जगा जो घने अँधेरे को चीर दे खुदी को पहचान तू ग़ालिब की बस नहीं है खुदी का सवाल औरो का भी वजूद है तुझी से ये… Continue Reading →

© 2018 Content मोहल्ला — Powered by WordPress

Theme by Anders NorenUp ↑