page contents
हमारी कहानी

हमारी कहानी

सूखे नीम के पत्तों पे लिखी गई

अनसुलझे शब्दों से पिरोई गई

साल दर साल कई पत्तों पे सजी

जब जवां हुई तो मीठी निमोली सी हुई

कई बारगी हवा के थपेड़ो में उलझी

हर सावन वो फिर हरी हुई

जाने क्यों वो कड़वी ही रह गई

शायद निमोली की मिठास कुछ कम रह गई

मेरे आँसुओ की कड़वाहट कुछ ज्यादा मिल गई

हमारी भी एक कहानी थी

जो नीम के सूखे पत्तों पे लिखी गई

– सचिन बिल्लोरे ‘आस’

Leave a Reply

Close Menu