Content मोहल्ला

II अपनी भाषा , अपना मंच II

Author

contentmohalla

अच्छे लगते हो

जब भी मिलते हो ,तुम अच्छे लगते हो कभी मेरी डायरी के पन्नो में, तो कभी साहित्य की बहस पर अक्सर तुम झलकते हो, वैसे तो तुम बड़े जिद्दी हो मजाक समझने में भी पिद्दी हो, याद है जब तुम्हारी… Continue Reading →

ग़ज़ल

हुज़ूर आपको ये दिल ये जान देते हैं ये तोहफ़े आपके शायान ए शान देते हैं ये अश्क ए हिज्र बड़े इम्तेहान देते हैं मगर ये आईने सच्चा बयान देते हैं अगर ये अश्क मेरे पत्थरों प गिर जाएं जो… Continue Reading →

ठंडी चाय

चाय तो मुझे शुरू से पसंद थी । पहली बार मिला तो उसने बताया, उसे मैं पसंद थी और मुझे चाय। चाय पर हम मिलने लगे ।उसकी बातों की चुस्कियों में मैं खोने लगी।बातें लंबी होती गयी और चाय ठंडी… Continue Reading →

कंबल

बहुत दिनों बाद दोनों दोस्त आज काॅफी हाउस में मिले।गर्मागर्म कॉफ़ी की चुस्कियों के साथ 2019 आम चुनाव की बातें चलने लगीं। बातें जो शुरु हुईं,तो ख़त्म होने का नाम ही न ले रही थीं। ठहाके पर ठहाके, वातावरण खुशनुमा… Continue Reading →

लड़की

पक्षियों के कलरव, गिलहरी की उछल-कूद में रंग-बिरंगे फ़ूलों, पत्तों की सरसराहट में एक लड़की गाते-गुनगुनाते ढूंढती है प्रेम दूर मुंडेर पर बैठा मैं उसे ऐसा करते निहारता निस्सीम, निस्पंद मौन सोचता हूँ क्या आएगा प्यार उसके भी जीवन में?… Continue Reading →

एक नन्ही सी चिड़िया

कटा के ये पर आसमां ढूंढ़ती है इक नन्ही सी चिड़िया जहां ढूंढती है घटाओ के झोंको की भूखी थी वो अब पिंजरों में बाकी हवा ढूंढ़ती है हर ज़र्रे पे अपने निशां ढूंढ़ती है वो पैरो तले आसमां ढूंढ़ती… Continue Reading →

ग़ज़ल

ऐसी भी क्या उड़ी है ख़बर देख कर मुझे सब फेरने लगे हैं नज़र देख कर मुझे क्यों छट नहीं रहा है सियह रात का धुआँ क्यों मुंह छुपा रही है सहर देख कर मुझे दोनों ही रो पड़े हैं… Continue Reading →

उनविंश

उनविंश का है यह प्रथम चरणकरती है लेखिनी अमर वरणयह बीत चला है समय देखशायद बदलेगी भाग्यरेखअलसाई किस्मत जागेगीरजनी भी तम संग भागेगीजो बीत चुका वह कब लौटाकरते ही हैं सब समझौताअब देखो आगे के पथ कोमत रोको जीवन के… Continue Reading →

आज कौन हूँ मैं?

जब चीरती हुई नज़रों से परखा जाता हूँ मैं, जब भी सवालों से खुद को घिरा पाता हूँ मैं। जब भी वतनपरस्ती की कसौटी पे कसा जाता हूँ मैं, जब भी टोपियों और कुर्ते से पहचाना जाता हूँ मैं।। मज़हब… Continue Reading →

© 2019 Content मोहल्ला — Powered by The Sociyo

Up ↑